English Speaking Course in Hindi पूरी जानकारी

0

English Speaking Course in Hindi में आपका स्वागत है. हे दोस्तों आप सभी को पता होगा इंग्लिश सीखना आजकल कितनी जरुरी है चाहे आप किसी भी छेत्र में हो हर जगह इंग्लिश की जानकारी होना जरुरी है अगर आप एक अच्छी नौकरी चाहते है तो आपकी इंग्लिश भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिए. बहुत से लोगो को लगता है वो इंग्लिश में कभी बात ही नहीं कर सकते है यही सोच उन लोगो की कमी होती है जिस वजह से वो कभी इंग्लिश में बात नहीं कर पाते इसलिए हमारे इस पोस्ट को पढ़े और जाने English Speaking Course in Hindi. अगर आप देखे तो आजकल ज्यादातर पोपुलर शोज, मूवी, बुक्स, ब्लोग्स, मूवीज सभी इंग्लिश भाषा में होते है और जिन्हें इंग्लिश की समझ नहीं है वो इन सभी चीजो से वंचित रह जाते है. अगर आप मेरी सलाह माने तो इस पोस्ट में दि हुई सभी टिप्स को अच्छे से निभाए और कुछ ही महीनो में आप भी इंग्लिश भाषा में बात करना शुरू कर दोगे लेकिन आपको हमारे सभी टिप्स इमानदारी से पूरे करने होंगे तो दोस्तों चलिए जानते है English Speaking Course in Hindi.

english kaise sikhe

दोस्तों सबसे जरुरी बात हमारे देश की मातृभाषा हिंदी है और हमें सबसे पहले हिंदी को अपने दिल में जगह देनी चाहिए लेकिन आजकल हमारे देश में इंग्लिश की मांग भी बढती जा रही है और लोग इंग्लिश में बात करना चाहते है हमें इंग्लिश बोलने में इसलिए परेशानी होती है क्यूंकि यह हमारे देश की भाषा नहीं है और हमारे आसपास भी इंग्लिश बोलने वाले लोग बहुत कम होते है यही दो वजह है की हमे इंग्लिश को बोलने और समझने में इतनी परेशानी होती है लेकिन चिंता की कोई बात नहीं आज मैं आप लोगो को इंग्लिश सिखने का सबसे बढ़िया तरीका बताने जा रहा हूँ तो पोस्ट को ध्यान से पढ़े.

अगर आप हिंदी इंग्लिश दोनों भाषा की तुलना करे तो आपको समझ आ जायेगा की कौनसी भाषा सीखना ज्यादा मुश्किल है मैं आपकी जानकारी के लिए बताना चाहूँगा हिंदी सीखना ज्यादा मुश्किल है इंग्लिश के मुकाबले अगर आप हिंदी बोल सकते है तो इंग्लिश क्यों नहीं. मुझे लग रहा है आपको मेरे कहने का मतलब समझ आ रहा होगा की मैं क्या बोलना चाह रहा हूँ जी आपने बिलकुल सही सोचा मैं यही कहना चाहता हूँ की जब आप हिंदी बोल सकते हो तो इंग्लिश क्यों नहीं आप इंग्लिश भी बड़ी आसानी से बोल सकते हो. तो दोस्तों यह कुछ जरुरी बातें थी जो आप लोगो से साझा जरुरी था अब बात करते है पोस्ट की तो चलिए पढ़े English Speaking Course in Hindi पूरी जानकारी के साथ.

English Speaking Course in Hindi ? पूरी जानकारी:

इंग्लिश में सोचना शुरू करे:

सबसे पहले आपको इंग्लिश में ही सोचने की आदत डालनी होगी. अगर आप किसी बात को पहले हिंदी में सोचते हो फिर उसे इंग्लिश में अनुवाद करते हो उसके बाद जवाब देते हो तो बहुत समय लग जाता है और आप कभी तेज़ इंग्लिश नहीं बोल पाओगे इसलिए हमेशा इंग्लिश में ही सोचने का प्रयास करे. मैं आपको बताता हूँ की इंग्लिश में सोचने का क्या फायदा होगा इंग्लिश में सोचने से यह फायदा होगा की आप आपका दिमाग इंग्लिश को जल्दी समझने लगेगा और आप इग्लिश में किसी भी बात का जवाब जल्दी दे पाओगे. यह टिप उन लोगो के लिए बहुत ज्यादा मददगार साबित होगी जो इंग्लिश समझ तो लेते है लेकिन बोलने में उन्हें परेशानी होती है.

इंग्लिश मूवी देखना शुरू करे:

आपको इंग्लिश मूवी देखनी चाहिए मैं यह नहीं कह रहा की आप हिंदी मूवी देखना ही छोड़ दो मेरे कहने का मतलब है आप इंग्लिश मूवी ज्यादा देखो हिंदी मूवी तो आप आसानी से समझ सकते हो लेकिन इंग्लिश मूवी देखते समय शुरुवात में समझने में आपको परेशानी होगी लेकिन धीरे धीरे आप सबकुछ समझना शुरू कर दोगे आप रोजाना कुछ नया सीखोगे किस समय क्या बोलना है सब कुछ आपके समझ आ जायेगा. अब आप यह पूछोगे इंग्लिश मूवी देखने से इंग्लिश सिखने का क्या संबंध तो मैं आपको बताना चाहूँगा जब आप इंग्लिश मूवी देखोगे तब कलाकार के हाव भाव को समझकर आप यह जान जाओगे किस स्तिथि मैं कैसे बर्ताव करना है और भी बहुत से फायदे आपको मिल सकते है.

वर्ड मीनिंग याद करे:

अगर आप इंग्लिश में बात करना चाहते हो तो आपको ज्यादा से ज्यादा वर्ड मीनिंग जरुर याद होनी चाहिए जितनी ज्यादा आप वर्ड मीनिंग याद करते हो उतना ही आपको फायदा होगा. बहुत से लोग यह भी शिकायत करते है की वर्ड मीनिंग याद करने के कुछ समय बाद वो भूल जाते है आखिर इसकी क्या वजह हो सकती है ? ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि आप वर्ड मीनिंग को रटते हो उसे कभी सामान्य बोलचाल के समय प्रयोग में नहीं लाते अगर आप वर्ड मीनिंग को सामान्य बोलचाल में लाते हो तो आप उसे कभी नहीं भूलोगे. आपको रोजाना कम से कम पचास वर्ड मीनिंग जरुर याद करनी चाहिए वैसे इसकी कोई सीमा नहीं है आप जितना याद करते हो उतना ही फायदेमंद है.

बेसिक ग्रामर समझे:

ऐसा जरुरी नहीं की जिन्हें ग्रामर की जानकारी न हो वो इंग्लिश नहीं बोल सकता लेकिन आपको बेसिक ग्रामर की जानकारी तो होनी ही चाहिए. जैसे हिंदी बोलने के नियम होते है उसी प्रकार इंग्लिश बोलने के भी नियम होते है अगर आप नियम पालन नहीं करते तो सामने वाला व्यक्ति यह समझ नहीं पाएगा की आप क्या कहना चाहते हो इसलिए इन नियमो को समझने के लिए आपको ग्रामर पढना होगा. इंग्लिश ग्रामर सिखने के लिए आप कोचिंग की मदद ले सकते हो, बुक्स की मदद ले सकते हो, ऑनलाइन टुटोरिअल से समझ सकते हो, इन्टरनेट की मदद ले सकते हो आदि. वैसे ग्रामर ज्यादा मजबूत होना जरुरी नहीं है लेकिन आपको बेसिक ग्रामर की जानकारी होनी चाहिए.

इंग्लिश में बात करे:

मान लो आपको वर्ड मीनिंग भी अच्छी तरह याद है और ग्रामर की भी अच्छी जानकारी है लेकिन फिर भी इंग्लिश बोलते समय आप अटक जाते हो गलतियां कर बैठते हो आखिर इसकी क्या वजह हो सकती है ? इसका कारण यह है की आप इंग्लिश बोलते समय घबराते हो अरे यार साधारण सी बात है जब तक साइकिल से नहीं गिरोगे तो साइकिल चलाना कैसे सीखोगे मेरे कहने का सीधा मतलब है जब तक गलतियां नहीं करोगे तब तक कैसे सीखोगे. आप ज्यादा से ज्यादा इंग्लिश में बात करने की कोशिश करो चाहे कितनी भी गलतियां क्यों न हो बाद में आप  गलतियां करना ही भूल जाओगे.

नए दोस्त बनाये:

नए दोस्त बनाने से मेरे मतलब है आपको ऐसे दोस्त बनाने है जिन्हें इंग्लिश आती हो और इंग्लिश बोलना जानते हो. आजकल इस काम में आपकी मदद सोशल नेटवर्किंग साईट कर सकती है. लेकिन आपको इस बात का भी ध्यान रखना है की जिससे आप बात कर रहे हो वो आपके जान पहचान का होना चाहिए अनजान लोगो से दोस्ती करना हमेशा सही परिणाम नहीं देता. अगर आपका कोई दोस्त अमेरिका, कनाडा, न्यू ज़ीलैण्ड जैसे जगहों से है जहाँ इंग्लिश बोली जाती है तब आपके लिए इंग्लिश सीखना और भी आसन हो जायेगा.

इंग्लिश गाने सुने और गुनगुनाये:

यह तो आप सभी जानते होंगे की पढ़ाई के विषय के मुकाबले लोगो को गाने जल्दी याद हो जाते है. एक रिसर्च के मुताबिक ऐसा कहा गया है की गाने सुनने से हमारा दिमाग शांत होता है और हम अंदर से तरोताजा महसूस करते है. अगर आप इंग्लिश सिखने में इच्छुक है तो सिर्फ हिंदी गाने ही न सुने आपको इंग्लिश गाने भी सुनने चाहिए. आपको कोई भी इंग्लिश गाना पसंद हो तो उसे डाउनलोड करे और इन्टरनेट से उसके लिरिक्स निकाल कर साथ में गुनगुनाये. इससे फायदा यह होगा की इंग्लिश शब्दों का उच्चारण आपका पहले से बेहतर हो जायेगा और आपके अंदर का आत्मविश्वास भी बढ़ेगा.

अपने वार्तालाप को रिकॉर्ड करे:

यह तरीका भी इंग्लिश सिखने और उसे बेहतर करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. इसमें आपको करना यह है की जब भी आप बात करे उसे साथ में रिकॉर्ड भी करे. आजकल सभी के हाथो में एंड्राइड फ़ोन होता है जिससे आप आवाज़ रिकॉर्ड कर सकते हो. अगर आप किसी से आमने सामने इंग्लिश में बात करते है तो हाथ में फ़ोन रख कर रिकॉर्ड कर सकते हो अगर किसी से फ़ोन पर बात करते हो तो कॉल रिकॉर्डर की मदद से उसे भी रिकॉर्ड किया जा सकता है. अपने वार्तालाप को रिकॉर्ड करके आप उसे बाद में सुन सकते हो और यह जान सकते हो की आपने बात करते समय किस जगह ग्रामार में गलती की और किस जगह उच्चारण में गलती हुई.

इंग्लिश कोचिंग लेना शुरू करे:

अगर आपको लगता है की आपको इंग्लिश सिखने के लिए एक अच्छे अध्यापक की आवश्यकता है तो इंग्लिश कोचिंग भी ज्वाइन करे. अध्यापक आपको आपकी कमियाँ बताएंगे कैसे इंग्लिश में बात किया जाता है इस बारे में बताएंगे किसी शब्द को कैसे बोलना है यह भी बताएंगे. अब आप समझ सकते हो इंग्लिश कोचिंग भी इंग्लिश सिखने में मदद करती है वैसे आप खुद से भी मेहनत करके घर पर ही इंग्लिश बोलना सिख सकते हो बुक्स और इन्टरनेट की मदद से जिन्हें बुक्स और इन्टरनेट से इंग्लिश समझने में दिक्कत हो रही है वो कोचिंग की मदद ले सकते है.

Final Words:

दोस्तों यह कुछ ऐसे टिप्स है जिसका अगर आप ध्यान रखे तो इंग्लिश बोलना आप जल्द ही सिख जाओगे. यह पोस्ट English Speaking Course in Hindi पर लिखा गया है लेकिन हम एक पोस्ट में पूरा कोर्स नहीं करवा सकते इसलिए आपको सिर्फ जरुरी टिप्स दिए है . ऐसा बिल्कुल नहीं है की आप सिर्फ 1 हफ्ते में ही इंग्लिश बोलना शुरू कर दोगे इसमें थोड़ा समय लग सकता है और यह आपके अभ्यास पर भी निर्भर करता है जितना ज्यादा आप अभ्यास करते हो उतने जल्दी आप इंग्लिश बोलना शुरू कर दोगे. अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आए तो शेयर जरुर करे.

Related Post