IIT Kya Hai ? IIT Ki Taiyari Kaise Kare

IIT Kya Hai ? IIT Ki Taiyari Kaise Kare

IIT Kya Hai ? क्या आप जानना चाहते है की IIT Kya Hai ? IIT Ki Taiyari Kaise Kare ? तो हमारे इस पोस्ट को जरुर पढ़े. अगर कोई IIT जैसे बड़े इंस्टिट्यूट में एडमिशन चाहता है तो इसके लिए एक अच्छे रणनीति का होना बहुत आवश्यक है. IIT में एडमिशन पाना उन हर स्टूडेंट का सपना होता है जो इंजिनियर बनना चाहते है. अगर आप भी किसी अच्छे इंस्टिट्यूट से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते है तो IIT इसके लिए सबसे अच्छा इंस्टिट्यूट माना जाता है. आज हम इस पोस्ट में IIT विषय के ऊपर खुल कर चर्चा करेंगे जैसे की IIT क्या है, IIT करने के लिए क्या योग्यता चाहिए और IIT की तैयारी कैसे करे इस बारे में विस्तार से बात करेंगे. तो चलिए दोस्तों जानते है IIT Kya Hai और IIT Ki Taiyari Kaise Kare.

iit kya hai

IIT करने के लिए आपको मेहनत पूरी लगन से करनी होती है तभी आपका सिलेक्शन IIT जैसे बड़े इंस्टिट्यूट में हो पाता है. हर साल लाखो बच्चे इंजीनियरिंग का ख्वाब ले कर JEE Mains का एग्जाम देते है लेकिन इनमे से कुछ ही बच्चे ऐसे होते है जो इसे क्वालीफाई करने में सफल हो पाते है. अगर 2018 की बात की जाये तो JEE Mains में कुल 11.35 लाख बच्चो ने भाग लिया लेकिन इनमे से सिर्फ 2,31,024 बच्चे ही इस एग्जाम को क्वालीफाई करने में सफल हुए. आप इस डाटा से इतना तो समझ सकते है की पेपर आसान नहीं होता होगा. अगर कोई JEE Mains एग्जाम पास भी कर लेता है तो JEE Advanced के लिए तैयारी करनी पड़ती है जो की JEE Mains एग्जाम से भी ज्यादा कठिन माना जाता है. अगर हम JEE Advance के डाटा की बात करे तो 2018 में इस एग्जाम के लिए कुल 1,55,158 बच्चो ने अप्लाई किया था लेकिन इनमे से सिर्फ 18,138 बच्चे ही इस एग्जाम को क्वालीफाई कर पाए. अब आप समझ सकते है की Mains और Advance के एग्जाम आसान नहीं होते और IIT तक पहुँचने के लिए आपको JEE Advance पास करना होता है.

IIT Kya Hai:

IIT का Full Form Indian Institute of Technology होता है जिसे हम हिंदी में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान नाम से जानते है. IIT की स्थापना 1946 में हुई थी जब जोगेंद्र सिंह ने भारत में उच्च शिक्षा के लिए एक समिति का गठन किया था. इसके बाद सबसे पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना कलकत्ता के नजदीक स्थित खड़गपुर में 1951 में हुई थी इसी इंस्टिट्यूट से पढ़ कर गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की थी. समय के साथ भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों की स्थापना दुसरे शहरो में भी होने लगी जैसे की बंबई (1958), मद्रास (1959), कानपुर तथा दिल्ली (1961) में हुई. इसके बाद असम में छात्र आंदोलन के बाद तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री राजीव गाँधी ने असम के छात्रो को उनके शहर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बनाने का वचन दिया. जिसके परिणामस्वरूप 1994 में असम के ही एक शहर गुवाहाटी में भी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की स्थापना हुई. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान से पढ़े हुए छात्रो का प्लेसमेंट काफी बड़े कंपनी में होता है और सैलरी भी लाखो में जाती है. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों की आलोचना इस बात से होती है की यहाँ से पढ़े हुए ज्यादातर बच्चे पैसो की लालच में देश छोड़कर विदेश के दुसरे कंपनी में काम करते है जिससे इंडिया को कोई लाभ नहीं पहुँचता. आज के समय में कुल 23 IIT इंस्टिट्यूट मोजूद है जिनके नाम इस प्रकार है

  1. IIT Kharagpur (IITKGP), Est 1951
  2. IIT Bombay (IITB), Est 1958
  3. IIT Kanpur (IITK), Est 1959
  4. IIT Madras (IITM), Est 1959
  5. IIT Delhi (IITD), Est 1963
  6. IIT Guwahati (IITG), Est 1994
  7. IIT Roorkee (IITR), Est 2001
  8. IIT (BHU) Varanasi, Est 2008
  9. IIT Bhubaneswar (IITBBS), Est 2008
  10. IIT Gandhinagar (IITGN), Est 2008
  11. IIT Hyderabad (IITH), Est 2008
  12. IIT Jodhpur (IITJ), Est 2008
  13. IIT Patna (IITP), Est 2008
  14. IIT Ropar (IITRPR), Est 2008
  15. IIT Indore (IITI), Est 2009
  16. IIT Mandi, Est 2009
  17. IIT Palakkad (IITPKD), Est 2015
  18. IIT Tirupati (IITTP), Est 2015
  19. IIT Dhanbad (IITDHN) – ISM Dhanbad, Est 1926
  20. IIT Bhilai (IIT C), Est 2016
  21. IIT Goa, Est 2016
  22. IIT Jammu, Est 2016
  23. IIT Dharwad, Est 2016

IIT Eligibility Criteria:

  • IIT JEE का एग्जाम सिर्फ 12th पास दे सकता है जिसने साइंस स्ट्रीम से 12th पास किया हो. अगर कोई 12th क्लास में पढ़ रहा हो वो भी इस एग्जाम में बैठ सकता है.
  • आपके पास 12th में कम से कम पांच सब्जेक्ट होने चाहिए. फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथमेटिक्स और किसी दो अन्य सब्जेक्ट का होना आवश्यक है.
  • वैसे तो कोई भी 12th साइंस स्ट्रीम पास स्टूडेंट JEE Mains एग्जाम दे सकता है लेकिन IITs, NITs, GFTIs और IIITs जैसे बड़े इंस्टिट्यूट में एडमिशन के लिए कम से कम 12th में 75% होने जरुरी है.
  • JEE Mains एग्जाम क्लियर करने के बाद टॉप 1.5 लाख स्टूडेंट ही JEE Advanced का एग्जाम दे सकते है.
  • JEE Advanced क्लियर करने के बाद ही IIT में एडमिशन मिल सकता है.
  • JEE Mains का एग्जाम आप ज्यादा से ज्यादा 3 बार दे सकते हो और JEE Advanced एग्जाम सिर्फ 2 बार.

IIT Ki Taiyari Kaise Kare:

1) NCERT Should be Priority:

IIT की तैयारी के लिए आपको NCERT अच्छे से पढ़ना होगा. आजकल मार्किट में बहुत से बुक्स मोजूद है जो IIT में आपको अच्छे रैंक दिलवाने का वादा करते है लेकिन आपको उन सभी बुक्स को बाद में पढ़ना चाहिए. सबसे पहले आपको NCERT पर अच्छे से पकड़ बनाना होगा तभी किसी दुसरे बुक पर ध्यान दे. ऐसा मैं इसलिए बोल रहा हूँ क्यूंकि IIT JEE में पूछे गये सवालो का मुख्य आधार NCERT ही है जितने भी टॉपिक से सवाल पूछे जाते है वो NCERT बुक के आधार पर ही बनाये जाते है. NCERT बुक बहुत ही सरल भाषा में लिखी गयी है अगर उन्ही टॉपिक को आप किसी दुसरे बुक से पढ़ते हो तो उतने अच्छे से समझ नहीं आएगा जितने आसानी से आप NCERT में उस टॉपिक को समझ सकते हो.

2) Prepare Well for Board Exam:

आप 12th में कितने परसेंटेज लाते हो इससे JEE एग्जाम के रैंक में कोई फर्क नहीं पड़ने वाला लेकिन फिर भी आपको अपने बोर्ड एग्जाम की तैयारी अच्छे से करनी है. अब आप जरुर सोचोगे की जब बोर्ड एग्जाम से JEE रैंक में फर्क नहीं पड़ने वाला तो मैं बोर्ड एग्जाम की तैयारी करने के लिए क्यूँ बोल रहा हूँ ? इसका सरल जवाब यहीं है की 12th बोर्ड और JEE Mains एग्जाम दोनों CBSE संचालित करती है इसलिए दोनों के प्रशन काफी मिलते जुलते भी होते है अगर आपने 12th बोर्ड की तैयारी अच्छे से कर रखी होगी तो इसका फायदा आपको JEE Mains में जरुर मिलेगा.

3) How Long You Should Study:

अब बात करते है की IIT की तैयारी करने के लिए आपको कितने घंटे पढाई करनी चाहिए ? देखिये मैं यहीं मानता हूँ की आप चाहे पांच घंटे भी क्यूँ न पढ़े लेकिन जब तक आपको वो चीज समझ नहीं आती तो पांच घंटे पढ़ने का भी कोई फायदा नहीं. इसलिए आपको इस बात पर ध्यान नहीं देना चाहिए की आप कितने घंटे पढाई कर रहे हो. आपको इस बात पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए की आप एक दिन में कितने टॉपिक को पढ़ कर समाप्त कर सकते हो. हमेशा एक लक्ष्य रखे की आपको एक दिन में इतने टॉपिक को पढ़ कर समाप्त कर ही देना है इससे आप सिलेबस भी जल्द ही समाप्त कर सकते हो अगर अच्छे से टॉपिक कवर करते हो तो.

4) Join Coaching Classes:

अगर आप JEE जैसे एग्जाम में सफलता चाहते है तो इसके लिए आपको किसी टीचर की जरुरत पड़ सकती है जो आपको JEE एग्जाम की तैयारी में मदद करे. हर कोई खुद से टॉपिक नहीं समझ सकता और हर सवाल आप खुद से हल नहीं कर सकते जब तक आपको यहीं न पता हो की इसे हल कैसे करना है. अगर आपको किसी प्रशन में कोई दिक्कत आती है तो इस बारे में आप अपने टीचर से बात कर सकते हो वो आपकी जरुर मदद करेंगे. आप चाहे तो घर बैठे भी अपने मोबाइल पर IIT JEE की तैयारी कर सकते हो प्ले स्टोर पर बहुत से एप्प्स मोजूद है जो विडियो लेक्चर से आपको IIT की तैयारी में मदद करते है कुछ बढ़िया एप्प्स के नाम BYJU’S, Robomate, AskIITians और Toppr है.

5) Solve Previous Years Paper:

अगर आप यह समझना चाहते हो की IIT JEE एग्जाम में सवाल किस तरीके से पूछे जाते है ? सवाल कितना कठिन आ सकता है ? सवाल किस टॉपिक से ज्यादा पूछे जाते है ? इन सभी बातों को जानने के लिए आपको पिछले साल के पेपर ज्यादा से ज्यादा हल करने चाहिए. जब आप पुराने पेपर हल करते हो तब आपको यह भी पता चलता है की अभी आपकी कितनी तैयारी है. पुराने पेपर हल करने से आपकी स्पीड भी बढ़ेगी और आप एग्जाम के समय में निश्चित समय के अंदर ही एग्जाम समाप्त कर सकते हो. ऐसा भी देखा गया है की पिछले साल के सवालों को फिर से एग्जाम में पूछ लिया जाता है इसलिए मैं आपको यहीं सलाह दूंगा की कम से कम पिछले 10 साल के क्वेश्चन पेपर जरुर हल करे.

6) Keep Balance in Physics, Chemistry & Maths:

अगर आप IIT की तैयारी कर रहे हो तो आपको तीनों सब्जेक्ट फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स में संतुलन बना कर चलना है. अगर आप IIT JEE का सिलेबस देखते हो तब आपको पता चलता है की इन तीनों सब्जेक्ट का महत्व एक जैसा है. इसलिए इन तीनों सब्जेक्ट को साथ में ले कर चले ऐसा कभी नहीं करना की आप सिर्फ एक सब्जेक्ट को पढ़े जा रहे हो और बाकि सब्जेक्ट को समय नहीं दे रहे. आप ऐसा जरुर कर सकते हो की जिस सब्जेक्ट में आप कमज़ोर हो उसे बाकि सब्जेक्ट से ज्यादा समय देने की कोशिश करे ताकि संतुलन बना रहे.

Best Books for JEE Mains/Advanced:

जब आप IIT जैसे एग्जाम की तैयारी करते हो तो सिर्फ NCERT पढ़ना ही काफी नहीं होता. वैसे तो सभी सवाल का मुख्य आधार NCERT ही है लेकिन आपको फिर भी रिफरेन्स बुक्स की मदद लेनी होगी क्यूंकि सवाल पूछने का तरीका NCERT से काफी अलग होता है. इसलिए मैं आप सभी को यहीं सलाह दूंगा की सबसे पहले NCERT अच्छे से पढ़े उसके बाद आपको रिफरेन्स बुक्स की मदद लेनी चाहिए. मैं आप सभी को कुछ बढ़िया रिफरेन्स बुक्स के नाम बता देता हूँ जिससे आपको IIT JEE Mains/Advanced एग्जाम की तैयारी में मदद मिलेगी.

For Physics:

  • NCERT Textbook for Physics
  • Concepts of Physics Vol 1 and Vol 2 by HC Verma
  • Fundamentals of Physics by Halliday & Resnick
  • Understanding Physics set of 5 books by DC Pandey
  • 40 Years Chapterwise Topicwise Solved Papers by DC Pandey

For Chemistry:

  • NCERT Textbook for Chemistry
  • A textbook of Physical Chemistry by Dr. R.K Gupta
  • A textbook of Organic Chemistry by Dr. O.P. Tandon
  • A textbook of Inorganic Chemistry by Dr. O.P. Tandon
  • 40 Years Chapterwise Topicwise Solved Papers by Ranjeet Shahi

For Mathematics:

  • NCERT Textbook for Mathematics
  • Objective Mathematics Vol 1 and Vol 2 by R.D. Sharma
  • Complete Mathematics For JEE Mains by Ravi Prakash, Ajay Kumar, Usha Gupta
  • Comprehensive Mathematics For JEE Advanced by Ravi Prakash, Ajay Kumar, Usha Gupta
  • Arihant Skills in Mathematics – Set of 7 books by Dr. SK Goyal, Amit M Agarwal

Final Words:

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में यह जाना की IIT Kya Hai ? IIT Ki Taiyari Kaise Kare. मैंने आपको IIT की तैयारी कैसे करे के साथ यह भी बताया की IIT के लिए बेस्ट बुक्स कौनसी है जिससे हमें JEE Mains और Advanced की तैयारी में मदद मिले. दोस्तों JEE Mains उतना कठिन नहीं होता जितना JEE Advanced को माना जाता है इसलिए जब आप JEE Mains में सफल हो जाते हो तो पहले से भी ज्यादा मेहनत करे क्यूंकि JEE Advanced के एग्जाम में सवाल JEE Mains के मुकाबले ज्यादा घुमा कर पूछे जाते है. अगर आप सभी को हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को शेयर जरुर करे.