RAM Full Form: रैम का फुल फॉर्म क्या है

0

RAM full Form ? दोस्तों RAM का फुल फॉर्म क्या होता है ? अगर आप लोग भी RAM का Full Form जानना चाहते है तो हमारे इस पोस्ट को जरुर पढ़े इस पोस्ट में हम RAM का फुल फॉर्म जानेंगे. मैं आपको RAM फुल फॉर्म के साथ बहुत कुछ बताने वाला हूँ जैसे RAM क्या है, RAM कहाँ और किस लिए इस्तेमाल किया जाता है और इसके क्या फायदे होते है. कहने का सीधा मतलब है की अगर आप RAM के बारे में जानने के लिए इच्छुक है तो इस पोस्ट को जरुर पढ़े. इस पोस्ट को पढने के बाद आपको पता चलेगा RAM हमारे गैजेट के लिए कितना जरुरी है तो चलिए पढ़े RAM full form हिंदी में.

ram full form

RAM का आप सभी ने नाम तो जरुर सुना होगा जब कोई नया फ़ोन मार्किट में आता है तो लोगो को आपने यह कहते जरुर सुना होगा की इस फ़ोन का RAM कितना है. RAM का इस्तेमाल हम अपने कंप्यूटर/लैपटॉप/एंड्राइड/आईफ़ोन आदि जैसे गैजेट में करते है. अगर आप एक साथ अपने फ़ोन में बहुत से एप्लीकेशन चला पाते हो तो वो सिर्फ आपके फ़ोन की RAM के वजह से. मान लीजिये की आप अपने फ़ोन से कोई गाना सुन रहे हो साथ में गेम भी खेल रहे हो तभी कोई आपको कॉल करता है तो बाकि के एप्लीकेशन बंद नही होते वो बैकग्राउंड में चल रहे होते है. अगर RAM आपके फ़ोन में नही होगा तो आपका फ़ोन काम नही करेगा और यह हेंग हो जायेगा.

RAM Full Form: रैम का फुल फॉर्म क्या है

दोस्तों RAM का फुल फॉर्म Random Access Memory होता है. यह मेमोरी आपके इंटरनल मेमोरी से काफी भिन्न होती है. चलिए मैं आपको एक उदहारण के मदद से समझाता हूँ की RAM क्या है. मान लीजिये आप अपने ऑफिस में बैठे हुए हो और आपको अपने डेस्क पर कोई फाइल चाहिए जो दुसरे कमरे में है तो आप उठ कर वो फाइल ले आते हो. अब कुछ समय बाद आपको कोई दूसरी फाइल चाहिए तो फिर से आपको उठाना पड़ता है. कुछ समय बाद आपको तीसरी फाइल चाहिए तो फिर से उठाना पड़ेगा इसलिए आपने सारे फाइल्स दुसरे कमरे से उठा कर अपने डेस्क पर रख दिए. अब आपको बार बार उठाना नही पड़ेगा क्यूंकि सभी फाइल्स आपके डेस्क पर ही मोजूद है. जब आपका फाइल से जुड़े काम ख़तम हो जाते है फिर से आप उन फाइल्स को दुसरे कमरे में रख देते हो.

RAM भी कुछ इसी तरीके से काम करता है जो दूसरा कमरा है वो आपका इंटरनल मेमोरी समझ लीजिये और डेस्क को अपना RAM. जब भी आपको किसी फाइल की जरुरत पड़ेगी इंटरनल मेमोरी से वो आपके RAM में सेव हो जाएगी. अगर आप अपना फ़ोन/कंप्यूटर बंद कर देते हो तो RAM को लगता है की आपने अपना काम पूरा कर लिया और RAM में जो भी डाटा सेव होता है वो अपने आप डिलीट हो जाता है.

RAM के प्रकार:

RAM दो प्रकार के होते है Static RAM और Dynamic Ram. दोनों में काफी अंतर होता है तो चलिए जानते है वो क्या बातें है जिनसे यह दोनों एक दुसरे से अलग है.

1) Static RAM: जैसे के नाम से पता चल रहा है Static मतलब जो एक ही जगह स्थिर रहे. Static Ram डाटा याद रखने के लिए बार बार रिफ्रेश नही होती हमेशा स्थिर रहती है यह जिस वजह से इसकी गति भी तेज़ होती है. यह RAM तभी तक अपने पास डाटा स्टोर रखती है जब तक आप अपने Device का Power Off नही कर देते. इस प्रकार के RAM को बनाने में ज्यादा खर्चा आता है.

2) Dynamic Ram: जैसे के नाम से पता चल रहा है Dynamic मतलब जो एक जगह स्थिर न रहे. Dynamic Ram को डाटा याद रखने के लिए बार बार रिफ्रेश होना पड़ता है जिस वजह से इसकी गति Static Ram के तुलना में कम होती है. यह भी RAM तभी तक अपने पास डाटा स्टोर रखती है जब तक आप Device का Power Off नही कर देते. इस प्रकार के RAM को बनाने में ज्यादा खर्चा नही आता.

RAM की विशेषता:

1) RAM की साइज़ आपके इंटरनल मेमोरी से हमेशा कम होगी.

2) RAM बनाने में ज्यादा खर्चा आता है इंटरनल मेमोरी के मुकाबले.

3) RAM अपने पास तभी तक डाटा स्टोर रखती है जब तक Device का Power Off नही हो जाता.

4) RAM को Primary Memory नाम से जाना जाता है क्यूंकि सभी सॉफ्टवेर इसी मेमोरी में काम करते है जबकि इंटरनल मेमोरी को Secondary Memory नाम से जाना जाता है क्यूंकि यह फाइल्स/सॉफ्टवेर आदि स्टोर रखते है.

5) RAM के Primary Memory होने के वजह से जितनी ज्यादा इसका साइज़ होगा उतना तेज़ आपका device काम करेगा यहीं कारण है की लोग ज्यादा RAM वाले smartphone/laptop पसंद करते है.

Final Words:

तो दोस्तों आज इस पोस्ट में हमने जाना RAM Full Form RAM का Full Form क्या है. इस पोस्ट में हमने Full Form के साथ RAM के बारे में भी जाना की RAM क्या है, RAM के प्रकार और RAM की विशेषता. आप सभी को इस पोस्ट से इतना तो पता चल ही गया होगा की  RAM के बिना हम फ़ोन/कंप्यूटर आदि इस्तेमाल नही कर सकते. मैं उम्मीद करता हूँ आप सभी को इस पोस्ट से जरुर कुछ नया सिखने को मिला होगा. अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो शेयर करना न भूले.