Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai

Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai

दोस्तों यह सवाल मुझसे बहुत बार कमेन्ट सेक्शन में पूछा जा चुका है इसलिए मैंने सोचा इस टॉपिक पर आप सभी के लिए ज़रूर पोस्ट लिखा जाए कि Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai सॉफ्टवेयर क्या होता है ? सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है ? पूरी जानकारी हिंदी में. दरअसल इस पोस्ट में हम उन सभी बातों पर चर्चा करेंगे जो सॉफ्टवेयर बनाने के लिए जरुरी होता है. बहुत से लोगो की यह जानने की इच्छा होती है की सॉफ्टवेयर कैसे बनाया जाता है इसके लिए किन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सीखना जरुरी है. अगर आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में अपना करियर बनाना चाहते है तो हमारे इस पोस्ट को जरुर पढ़े. तो दोस्तों चलिए अब जानते है की सॉफ्टवेयर कैसे बनाये पूरी जानकारी हिंदी में.

software kaise banate hai

Software Kya Hota Hai:

सबसे पहले हमारा यह समझना जरुरी है की सॉफ्टवेयर क्या होता है ? अगर आसान शब्दों में कहा जाये तो सॉफ्टवेयर एक तरह का निर्देश होता है जो कंप्यूटर को बताता है उन्हें क्या काम करना है. बहुत से लोग यह भी जानना चाहते है की सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में क्या अंतर है ? तो आपको हम यह बताना चाहेंगे की हार्डवेयर कंप्यूटर के उन पार्ट्स को बोला जाता है जिसे हम अपने हाथों से छू सकते है जबकि सॉफ्टवेयर वह होते है जो कंप्यूटर का ही एक हिस्सा है लेकिन हम उन्हें नहीं छू सकते. आपको यह बात पता होनी चाहिए की हार्डवेयर हमेशा सॉफ्टवेयर द्वारा ही नियंत्रण किया जाता है. उदहारण के लिए कंप्यूटर खुद एक हार्डवेयर है जो सॉफ्टवेयर बिना नियंत्रण नहीं किया जा सकता. उसी प्रकार सॉफ्टवेयर को भी हम बिना हार्डवेयर के काम में नहीं ला सकता.  अब हम जान चुके है सॉफ्टवेयर क्या है ? सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में क्या अंतर है अब चलिए यह जानते है सॉफ्टवेयर के प्रकार और सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है पूरी जानकारी.

Software Ke Types:

सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते है:

System Software:

इस प्रकार के सॉफ्टवेयर हमेशा कंप्यूटर का प्रबंधन और नियंत्रण करने के उद्देश्य से इस्तेमाल किया जाता है. जितने भी जरुरी कार्य कंप्यूटर करते है उनमे सबसे ज्यादा सहयोग सिस्टम सॉफ्टवेयर का ही होता है.

  1. यह सभी हार्डवेयर पार्ट्स को नियंत्रित करता है.
  2. यह कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाले सॉफ्टवेयर को नियंत्रित करता है.
  3. यह कंप्यूटर के जरुरी प्रक्रिया का मुख्य स्त्रोत है.
  4. यह कंप्यूटर के सभी फाइल और डॉक्यूमेंट के बदलाव में काम आता है.
  5. इसके कुछ उदहारण Windows, Linux, Android, Unix आदि है.

Application Software:

इस प्रकार के सॉफ्टवेयर किसी ख़ास काम के लिए बनाये जाते है. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को किस तरह से इस्तेमाल करना है यह लोगो पर निर्भर करता है. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को काम करने के लिए सिस्टम सॉफ्टवेयर की जरुरत पड़ती है. बिना सिस्टम सॉफ्टवेयर के एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर काम नहीं कर सकता. जितने भी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल आप अपने कंप्यूटर पर करते हो वह सभी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ही होते है. उदहारण के लिए Microsoft Office Word, Microsoft Office Excel, Microsoft Office Powerpoint, Paint, Notepad आदि.

मुझे लगता है इतनी जानकारी आप सभी के लिए काफी होगी और अब आप समझ गये होंगे की सॉफ्टवेयर क्या होते है और इसके कितने प्रकार होते है. सॉफ्टवेयर कैसे बनाये यह जानने से पहले सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी हासिल करना जरुरी था जो हम सभी जान चुके है. तो दोस्तों चलिए अब जानते है Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai ? पूरी जानकारी हिंदी में.

Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai:

अपनी पसंद को समझे:

जैसा की मैंने अभी आपको सॉफ्टवेयर के प्रकार बताया की यह दो तरह के होते है System Software और Application Software. सिस्टम सॉफ्टवेयर उसे कहते है जो ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने और संचालित करने के लिए उपयोग किया जाता है उदहारण के लिए Windows, Android, Linux आदि सिस्टम सॉफ्टवेयर को ही कहा जाता है. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर उसे कहते है जो लोगो के काम को आसान करने के लिए उपयोग होता है उदहारण के लिए Photoshop से फोटो एडिटिंग का काम आसानी से हो जाता है. तो मेरे कहने का मतलब है की आपको सबसे पहले यह निर्णय लेना है की आप सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाना चाहते हो या एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर.

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखे:

अगर आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में रूचि रखते है तो बहुत बार आपके दिमाग में यह सवाल आया होगा की किसी प्रकार के सॉफ्टवेयर को हम कैसे वास्तव में बना सकते है. अगर आपके दिमाग में कोई आईडिया है जिस पर आप सॉफ्टवेयर बनाना चाहते हो लेकिन आपको पता नहीं होता सॉफ्टवेयर कैसे बनाये तो हम निराश हो जाते है. किसी सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए सबसे जरुरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जानकारी होना आवश्यक है. वैसे तो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज भी काफी प्रकार के होते है लेकिन मैं आपको उन प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जानकारी देता हूँ जो सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है .

  • C: अगर हम C लैंग्वेज की बात करे तो यह बहुत पुरानी कंप्यूटर भाषा है और ऐसा भी कहा जाता है की दुसरे कंप्यूटर भाषा का उदय भी C लैंग्वेज से ही हुआ है. इस भाषा का आज भी काफी महत्व है इससे Low Level Programs डिजाईन किया जा सकता है.
  • C++: इस कंप्यूटर भाषा को आप C लैंग्वेज का Object-Oriented Version भी बोल सकते हो आज भी इस लैंग्वेज का प्रयोग बहुत से कंपनी अपने सॉफ्टवेयर बनाने के लिए करते है. आपको शायद पता न हो लेकिन  C++ की मदद से ही Chrome, Firefox, Photoshop जैसे पोपुलर सॉफ्टवेयर बनाये गये है. आज भी मार्किट में C++ डेवलपर की काफी डिमांड होती है.
  • Java: इस लैंग्वेज को  C++ में कुछ बदलाव करके बनाया गया है. इस लैंग्वेज की मदद से कंप्यूटर, एंड्राइड सॉफ्टवेयर और गेम बनाये जा सकते है.
  • C#: यह एक Windows पर निर्धारित लैंग्वेज है जो NET Framework (Microsoft) का एक हिस्सा है. यह लैंग्वेज C++और Java से काफी मिलती जुलती है और अगर किसी को Java की जानकारी पहले से हो तो वह इस लैंग्वेज को भी आसानी से सिख सकते है. यह लैंग्वेज Windows डेवलपर के लिए काफी जरुरी समझी जाती है.
  • Python: इसे सिखने में आपको ज्यादा दिक्कत नहीं आएगी और इसका प्रयोग आपको बहुत बार वेब डेवलपमेंट में देखने को मिलता है.
  • PHP: इसका प्रयोग भी अधिकतर वेब डेवलपमेंट में होता है लेकिन सॉफ्टवेयर बनाने में भी इसकी मदद ली जा सकती है.

कोचिंग की मदद ले:

जब हम किसी करियर के शुरुवात में होते है तो हमें बहुत से बातें पता नहीं होती जिस वजह से हम काफी गलतियाँ कर देते है. वैसे तो गलतियों से ही सिखा जाता है लेकिन कितने बार हम एक ही गलती दोहराते है जिससे हमारे समय की भी काफी बर्बादी होती है. तो मेरे कहने का सीधा मतलब है की आपको एक अच्छे टीचर की जरुरत पड़ सकती है जो आपको सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के बेसिक बताएँगे. इससे आपका समय भी बचेगा और आप सॉफ्टवेयर बनाना भी जल्दी सिख जाते हो. आजकल ऑनलाइन इंटरनेट पर भी काफी विडियो देखने को मिल जायेंगे जहा से आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट सिख सकते हो.

रोजाना अभ्यास करे:

जब आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट फील्ड में नए होते हो तो आपको काफी अभ्यास करनी होती है तभी आप कुछ नया सिख सकते हो. सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पर मजबूत पकड़ होना चाहिए तभी कोई इसमें अपना करियर बना सकता है. अगर आप बीच में ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का अभ्यास छोड़ देते हो तो जो भी आप आजतक सीखे हो सब भूलने लगते हो. इसलिए रोजाना अभ्यास करने की आदत डाले इसके साथ ही जब आप प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पूरी तरह सिख जाते हो तो खुद से ही किसी सॉफ्टवेयर का निर्माण करे. जब आप किसी नए सॉफ्टवेयर को बनाते हो तो उसे अपने जॉब रिज्यूम में जरुर लिखे इससे आपको किसी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कंपनी में नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है.

सॉफ्टवेयर से पैसे कमाए:

जब आप कोई नया सॉफ्टवेयर बनाते हो तो सबसे पहले यह सवाल आता है की इसे लोगो तक कैसे पहुँचाया जाये और इससे पैसे कैसे कमाए. तो इसके लिए आप अपनी वेबसाइट बना सकते हो जहा अपने सॉफ्टवेयर को ऑनलाइन बेचा जा सके. अगर आपको वेबसाइट बनाना सीखना हो तो हमारा यह पोस्ट पढ़े वेबसाइट कैसे बनाये पूरी जानकारी. इसके अलावा आपको अपने सॉफ्टवेयर के लिए प्रचार की भी जरुरत पड़ेगी ताकि लोगो को आपके सॉफ्टवेयर के बारे में पता चले. अपने सॉफ्टवेयर का प्रचार करने के लिए Google Ads, Facebook Ads, Instagram Ads आदि  का साहारा लिया जा सकता है. अगर आपके पास पहले से लोगो की ईमेल आईडी हो तो उन्हें ईमेल करके भी सॉफ्टवेयर का प्रचार किया जा सकता है.

Final Words:

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में जाना की Software Kaise Banaye ? Software Kaise Banate Hai पूरी जानकारी हिंदी में. इस पोस्ट में दी गयी जानकारी से आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में अपना करियर बना सकते है. सॉफ्टवेयर बनाना अगर आपको आता है तो आपकी जॉब भी आसानी से किसी सॉफ्टवेयर कंपनी में लग जाती है. सबसे पहले आपको इस पोस्ट में बताये गये प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पर अच्छी पकड़ बनानी होगी उसके बाद ही आप बड़े से बड़े सॉफ्टवेयर बना सकते हो. अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो शेयर जरुर करे.