ताज महल किसने बनाया? पूरी जानकारी

0

आज हम इस पोस्ट में जानेंगे की Taj Mahal Kisne Banaya पूरी जानकारी. आप सभी जानते हो ताज महल भारत की शान है जिस पर हम सभी लोगों को गर्व है. लेकिन क्या कभी आपने सोचा ताज महल किसने बनाया? अगर आपको इस सवाल का जवाब नहीं पता तो कोई बात नहीं क्योंकि इस सवाल का जवाब हम इस पोस्ट में देने जा रहे है. ताज महल आज दुनिया भर में इतना प्रसिद्ध है की लोग देश-विदेशों से इसे देखने आते है. इसकी खूबसूरती लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर लेती है. तो चलिए जानते है ताज महल किसने बनाया पूरी जानकारी हिंदी में.

taj mahal kisne banaya

ऐसा भी कहा जाता है चांदनी रात में ताज महल की खूबसूरती देख लिया जाये तो वह दृश्य आँखों से कभी ओझल नहीं होता. अगर हम किसी प्यार की निशानी की बात करे तो ताजमहल का नाम सबसे पहले आता है. ताज महल दुनिया के सात अजूबे में से एक है और सबसे पहला स्थान रखता है. यमुना नदी के किनारे बना ये ऐतिहासिक स्मारक पर्यटक के लिए सबसे मनपसंद जगह माना गया है.

ताज महल किसने बनाया?

ताज महल का निर्माण पाँचवें मुग़ल बादशाह शाहजहाँ द्वारा अपनी सबसे प्रिय बेगम मुमताज़ महल के लिए हुआ था. यह बात सन् 1631 की है जब मुग़ल बादशाह शाहजहां हिन्दुस्तान की सरज़मीं पर अपनी बेग़म मुमताज़ महल की मृत्यु का मातम मना रहे थे. उनका प्यार आर्किटेक्चर के लिए भी काफी था इसलिए वो कुछ ऐसा बनाना चाहते थे जिससे उनकी बेग़म मुमताज़ के प्रति अपने मोहब्बत को दर्शाए.

शाहजहाँ पांचवे मुग़ल शहंशाह थे. शाह जहाँ अपने समय में न्यायप्रियता और वैभवविलास के कारण अपने शासन काल में बड़े लोकप्रिय रहे. लेकिन इतिहास में शाहजहाँ का नाम केवल इस कारण नहीं लिया जाता. इनका नाम एक ऐसे आशिक के तौर पर लिया जाता है जिसने अपनी मुमताज़ बेगम के लिये विश्व की सबसे ख़ूबसूरत इमारत ताज महल का निर्माण किया. 1627 में अपने पिता सम्राट जहाँगीर की मृत्यु होने के बाद वह गद्दी पर बैठे. उनके शासनकाल को मुग़ल शासन का स्वर्ण युग और भारतीय सभ्यता का सबसे समृद्ध काल बुलाया गया है.

ताज महल कब बना था?

ताज महल का निर्माण 1632-1653 के बीच हुआ था. उस समय ज्यादा टेक्नोलॉजी नहीं होती थी तो यह भी कारण हो सकता है ताज महल के निर्माण में इतना समय लग गया. लेकिन इस शानदार महल को देख कर यह एहसास जरुर होता है की इसमें काफी बारीकी से काम हुआ है यही कारण है की आज भी इसकी खूबसूरती ठीक वैसे ही है.

ताज महल के रोचक तथ्य:

अब आप भी सोच रहे होंगे इतनी शानदार ईमारत बनाने में कितना समय लगा होगा? कितने पैसे खर्च किये होंगे और कितने लोगो ने मेहनत की होगी. यह प्रश्न किसी के भी दिमाग में आएगा क्योंकि इस महल को देख कर कोई भी इसकी प्रसंशा करने से खुद को रोक नहीं पाता. आपको जानकार हैरानी होगी की इसके निर्माण में 20 साल जितना समय, 1000 हाथी और 20,000 कारीगरों ने सहायता की. ऐसा माना जाता है की ताज महल को बनाने के लिए लगभग 70 बिलियन रुपए खर्च हुए. यदि वर्तमान मुद्रा में बदला जाए तो इससे भी अधिक हो सकता है.

ताजमहल को देखने प्रत्येक वर्ष 20 से 40 लाख लोग आते है, जिसमें से 200,000 से अधिक विदेशी होते है. अधिकतर पर्यटक यहाँ अक्टूबर, नवंबर एवं फरवरी के महीनों में आते है. एक अभियान जिसका नाम New7Wonders of the World को 2000 से 2007 के बीच में शुरू किया था. इसका उद्देश्य दुनिया भर के 200 स्मारकों में से सबसे श्रेष्ठ स्मारक का पता लगाना था. विजेता घोषित करने के लिए वोटिंग हुई जिसमे 10 करोड़ से भी ज्यादा लोगो ने अपने मनपसंद स्मारक के लिए वोट किया. 7 जुलाई 2007 को को विजेता घोषित हुआ जिसमे से एक ताज महल भी था.

ताज महल को सफ़ेद संगमरमर के पत्थर से बनाया गया है जिसे राजस्थान मकराना से लाया गया था. इसके अलावा जैस्पर को पंजाब से, हरिताश्म या जेड एवं स्फटिक या क्रिस्टल को चीन से, तिब्बत से फीरोजा़, अफगानिस्तान से लैपिज़ लजू़ली, श्रीलंका से नीलम एवं अरबिया से इंद्रगोप लाए गए थे. इस तरह अठ्ठाइस प्रकार के बहुमूल्य पत्थर एवं रत्न इस संगमरमर में जड़े गये. शायद यही कारण है की चांदनी रात में ताज महल और भी ज्यादा खूबसूरत दिखाई देता है.

ऐसा भी कहा जाता है की जिन कारीगरों ने ताज महल का निर्माण किया था शाहजहाँ ने उनके हाथ कटवा दिए या फिर मरवा दिया था. कुछ लोगों यह भी कहना है कि ताजमहल के निर्माण से जुडे़ लोगों से यह करारनामा लिखवा लिया गया था कि वे इस रूप का कोई भी दूसरी इमारत नहीं बनाएंगे. हालांकि आप इसे सिर्फ अफवाह कह सकते है क्योंकि तत्कालीन किसी भी महत्वपूर्ण काव्य इत्यादियों में इसका उल्लेख़ नहीं मिलता है.

Final Words:

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में जाना Taj Mahal Kisne Banaya और Taj Mahal Kisne Banaya Tha. इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको भी ताज महल के बारे में काफी कुछ जानने को मिला होगा. यह जानकारी सिर्फ आपके ज्ञान के लिए ही नहीं बल्कि यह सवाल आप से किसी भी एग्जाम में पूछ लिया जा सकता है. ताज महल जैसी ईमारत शायद ही इस दुनिया में बनी है या फिर शायद ही कभी बनेगी. इस स्मारक को बनाने के लिए की गयी मेहनत इसी बात से पता चलती है की आज भी इसकी चमक बरकरार है. अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो शेयर जरुर करे.

Related Post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here